ग्रामीण बैंक कर्मचारी एक दिवसीय हड़ताल पर रहे । जानिए क्या हैं उनकी मांगें ।

दिनाँक 27 सितम्बर को ऑल इन्डिया रीजनल रूरल बैंक एम्प्लाइज एसोसिएशन के आवाहन पर देश भर के ग्रामीण बैंकों के कर्मचारी एक दिन की हड़ताल पर रहे । कर्मचारियों ने अपने अपने बैंको के प्रधान एवम अन्य प्रशासनिक कार्यलयों के समक्ष धरना दिया और अपनी माँगों के समर्थन में ज्ञापन उच्च अधिकारियों को सौंपा ताकि उनकी बात केन्द्र सरकार तक पहुँच सके।

ग्रामीण बैंक कर्मचारियों ने निम्न माँगों के समर्थन में आज की हड़ताल की-

  1. प्रायोजक बैंक मुक्त राष्ट्रीय ग्रामीण बैंक की स्थापना।
  2. पर्याप्त मानव शक्ति नियोजन,पर्याप्त भर्ती एवं प्रोन्नति नीति प्रवर्तक बैंक के समान ।
  3. 11वाँ वेतन समझौता पूर्ण रूप से लागू करना ।
  4. दैनिक वेतन भोगी कर्मियों को नियमित करना व न्यूनतम मजदूरी का भुगतान।
  5. अनुकम्पा भर्ती ।
  6. सभी को पेंशन ( सुप्रीम कोर्ट के निर्णय की तिथि तक )
  7. ग्रेच्यूटी,कम्प्यूटर इन्क्रीमेंट सहित सभी लंबित मुद्दों का समाधान ।
  8. कोविड – 19 के शिकार स्टाफ की प्रतिपूर्ति

इसी क्रम में राजधानी लखनऊ स्थिति आर्यवर्त बैंक के प्रधान कार्यालय के समक्ष भी बड़ी संख्या में ग्रामीण बैंक कर्मचारियों ने धरना दिया व प्रदर्शन किया । बाद में बैंक की अरेबिया इकाई के अध्यक्ष श्री कृष्णा नन्द त्रिपाठी व महामन्त्री श्री चैन सिंह रावत के नेतृत्व में एक शिष्ट मण्डल ने बैंक के अध्यक्ष श्री एस बी सिंह से भेंट कर उन्हें ज्ञापन सौंपा ।

नाबार्ड द्वारा आज सभी ग्रामीण बैंकों के अध्यक्षो को एक पत्र भेजकर आज की हड़ताल के प्रभाव का आंकलन कर रिपोर्ट भेजने को कहा गया है।

रिपोर्ट – विकास चन्द्र अग्रवाल

Leave a Reply

Your email address will not be published.