चैटिंग को डिकोड कर रही ATS, मुर्तजा के बैग से मिला गोरखनाथ मंदिर का नक्‍शा, कई शहरों से उठाए गए मददगार

गोरखनाथ मंदिर में तैनात पीएसी जवानों पर हमले के आरोपी मुर्तजा अब्‍बासी की चैटिंग की कई बातें समझ नहीं आ रही हैं। एटीएस की एक टीम इसे डिकोड करने में जुटी है। ATS मुर्तजा के नेटवर्क को खंगाल रही है।


गोरखनाथ मंदिर में तैनात पीएसी जवानों पर हमले के आरोपी मुर्तजा की चैटिंग को एटीएस डिकोड करने की कोशिश कर रही है। सूत्रों के मुताबिक मुर्तजा के लैपटॉप में कई तरह के उकसाने वाले वीडियो मिले हैं, साथ ही मुंबई और नेपाल के कई लोगों के साथ लगातार चैटिंग भी मिली है। इनमें से कुछ के बारे में एटीएस को पता भी लग गया है। ये सभी संदिग्ध बताये जा रहे हैं। मुर्तजा के बैग से एटीएस को गोरखनाथ मंदिर का नक्‍शा भी मिला है।

मुर्तजा के प्‍लान के बारे में ज्‍यादा से ज्‍यादा जानने के लिए एटीएस उसके करीबियों और मददगारों से लगातार पूछताछ कर रही है। गोरखपुर, मुंबई, सिद्धार्थनगर, महराजगंज और कोयंबटूर सहित कई शहरों में एटीएस की अलग-अलग टीमें गई हैं। सूत्रों के मुताबिक एटीएस ने संदेह के आधार पर कुछ लोगों को उठाया भी है। उनसे पूछताछ की जा रही है।
चैटिंग की कई बातें एटीएस को समझ नहीं आयी हैं, इसके लिये उसे डिकोड किया जा रहा है। दावा किया जा रहा है कि मुर्तजा के लैपटॉप को लखनऊ लाया जाएगा जहां फोरेंसिक विशेषज्ञ उसमें से कुछ और पता करने की कोशिश करेंगे।

मंदिर का पूरा नक्शा था

मुर्तजा के बैग में अरबी भाषा में लिखी हुई एक किताब मिली है। इसमें गोरखनाथ मंदिर का नक्शा था। हालांकि ये नक्शा काफी पुराना बताया जा रहा है। मुर्तजा के मंदिर में दाखिल होने, आतंकी साजिश और इरादों की जांच के लिए एटीएस और खुफिया तंत्र की करीब दर्जन भर टीमें नेपाल, गाजीपुर व जौनपुर के अलावा कई जिलों तक सुराग तलाश रही हैं।

पहले से रडार पर था मुर्तजा

सूत्रों के अनुसार केंद्रीय सुरक्षा एजेंसियों के इनपुट के आधार पर यूपी एटीएस पहले से उनकी निगरानी कर रही थी। इसी सिलसिले में दो अप्रैल को एटीएस मुर्तजा के घर भी गई थी। आईआईटी मुंबई से केमिकल इंजीनियरिंग में बीटेक करने के बाद अच्‍छी नौकरी छोड़कर ऐप डेवलपर का काम करने वाले मुर्तजा पर एजेंसियां लंबे समय नज़र रख रही थीं।

द इंडियन ओपिनियन

Leave a Reply

Your email address will not be published.