नहीं रहे वरिष्ठ हिंदी पत्रकार और टेलीविज़न की दुनिया की एक चिरपरिचित शख्शियत – विनोद दुआ

वरिष्ठ पत्रकार विनोद दुआ का निधन हो गया है। 67 की उम्र में उन्होंने दिल्ली के अपोलो अस्पताल में आखिरी सांस ली । पारिवारिक सूत्रों ने बताया कि अपरान्ह करीब साढ़े चार बजे उनका निधन हुआ। दूरदर्शन और एनडीटीवी जैसे समाचार चैनलों के लिए सेवाएं दे चुके दुआ, हिंदी पत्रकारिता के क्षेत्र में एक चिरपरिचित शख्शियत रहे है।

दुआ को लीवर में संक्रमण के कारण कुछ दिनों पहले परमानंद अस्पताल में भर्ती कराया गया था। पिछले 5 दिनों से वह अपोलो अस्पताल के आईसीयू में भर्ती थे। दुआ अपने पीछे दो बेटियां छोड़ गए हैं। दुआ की पत्नी का इसी साल जून में कोरोना संक्रमण के कारण निधन हो गया था। दुआ भी कोरोना से लड़े थे और इसके बाद से उनका शरीर लगातार कमजोर होता गया। दुआ का अंतिम संस्कार रविवार दोपहर 12 बजे लोधी श्मशान गृह में किया जाएगा।

बेटी मल्लिका ने दी थी तबियत बिगड़ने की जानकारी

कुछ दिनों पहले तबियत बिगड़ने के बाद उन्हें आईसीयू में भर्ती कराया गया था। उनकी बेटी मल्लिका दुआ ने विनोद दुआ की हालत गंभीर होने की जानकारी दी थी। मल्लिका ने अपने इंटाग्राम पर भावुक पोस्ट लिखते हुए कहा था कि उनके पिता की हालत गंभीर है, उनके लिए दुआ करें कि उन्हें कम से कम तकलीफ हो। 

दुआ की मृत्यु पश्चात बेटी मल्लिका का आखों में नमी ले आने वाला इंस्टाग्राम पोस्ट

मल्लिका दुआ ने अपने इंस्टाग्राम पर लिखा, ”हमारे निर्भीक, निडर और असाधारण पिता विनोद दुआ का निधन हो गया है। उन्होंने एक अद्वितीय जीवन जिया, दिल्ली की शरणार्थी कॉलोनियों से शुरु करते हुए 42 वर्षों तक पत्रकारिता की उत्कृष्टता के शिखर तक बढ़ते हुए, हमेशा सच के साथ खड़े रहे।” उन्होंने लिखा, “वह अब हमारी मां, उनकी प्यारी पत्नी चिन्ना के साथ स्वर्ग में है, जहां वे गीत गाना, खाना बनाना, यात्रा करना और एक दूसरे से लड़ना-झगड़ना जारी रखेंगे।

रोहित सरदाना के बाद दुआ का जाना पत्रकारिता जगत को एक अपूर्तनीय क्षति

इसी वर्ष हमने प्रख्यात पत्रकार और टी वी एंकर रोहित सरदाना को खोया था। उनके बाद विनोद दुआ का यूँ चले जाना एक ऐसी क्षति है जिसको भर पाना मुश्किल होगा । अलविदा विनोद दुआ।

रिपोर्ट – विकास चन्द्र अग्रवाल

Leave a Reply

Your email address will not be published.