बलरामपुर :- औचक निरीक्षण के लिए जिले में पहुंचे जलशक्ति मंत्री, अधिकारियों में हड़कम्प

यूपी के बलरामपुर जिले में राप्ती नदी खतरे के निशान से ऊपर चल रही है। तराई इलाकों में बाढ़ का पानी गांव तक पहुंचकर लगातार तबाही मचा रहा है। जिले को बचाने के लिए अलग क्षेत्रों में बाढ़ खंड व सिंचाई विभाग द्वारा बनाए गए बांधों पर नालों और राप्ती नदी का कटान तेज हो रहा है। ईटीवी भारत द्वारा लगातार कटान व बाढ़ की खबरें प्रसारित और प्रकाशित की जाती रही है, जिसका संज्ञान लेकर अब उत्तर प्रदेश शासन में जल शक्ति मंत्री डॉ महेंद्र सिंह ने लिया है और वह जिले के औचक दौरा पर हैं।

पुलिस लाइन में की बैठक :-

औचक दौरे पर पहुंचे हैं जलशक्ति मंत्री का हेलीकॉप्टर पुलिस लाइन बलरामपुर में उतरा। यहां जनप्रतिनिधियों और अधिकारियों ने उनका स्वागत किया। जल शक्ति मंत्री महेंद्र सिंह ने रिजर्व पुलिस लाइन के सभागार में जिले के अधिकारियों व बाढ़ खंड के अधिकारियों के साथ समीक्षा बैठक की। इस बैठक में विधायकों के साथ जिलाधिकारी श्रुति व पुलिस अधीक्षक हेमंत कुटियाल भी मौजूद रहे।

ये प्रोजेक्ट्स फेल हुए, जो जिले में बाढ़ का कारण बने :-

दरअसल, सदर विकास खंड के ग्राम चंदापुर व कोडरवा को बचाने के लिए विगत वर्ष 6 करोड़ रुपए की लागत से एक बांध बनाया गया था, जिस पर अब राप्ती नदी तेजी से कटान कर रही है। उसकी लगातार मरम्मत चल रही है। लेकिन ग्रामीणों का कहना है उसको बचाया नहीं जा सकेगा।

हालांकि, बाढ़ खंड ग्रामीणों के उलट बांध को हर हाल में बचा लेने का दावा कर रहा है। वहीं, तराई की बात करें तो महाराजगंज तराई क्षेत्र में खरझार नाला बहता है। इसके बगल बंधे का निर्माण करा कर गांव को बचाने का प्रयास किया गया था। लेकिन वहां भी बांध कट जाने के कारण रामपुर मैटाहवा सहित दर्जनों गांव में पानी घुस चुका है।

वहीं, अगर गैसड़ी विधानसभा क्षेत्र की बात करें तो यहां 3 करोड़ 18 लाख की लागत से एक तटबंध बनाए जाने की कवायद चल रही थी। अधिकारियों के मुताबिक उसका 70% काम भी पूरा हो चुका था। बावजूद, इसके तटबन्ध बाढ़ के पानी को रोक नहीं सका और महरी सहित दर्जनों गांव में अब पानी घुस चुका है।

विधायक गैंसड़ी ने की थी शिकायत :-

इस मामले का संज्ञान लेते हुए गैंसड़ी विधानसभा सीट से विधायक शैलेश सिंह शैलू ने जल शक्ति मंत्री से शिकायत करते हुए पूरे मामले की जांच कराकर दोषी अधिकारियों पर कड़ी कार्रवाई की मांग भी की थी। इन्हीं, सब मामलों का संज्ञान लेकर आज जलशक्ति मंत्री महेंद्र सिंह बलरामपुर के औचक दौरे पर पहुंचे थे।

तीनों तहसीलों में है बाढ़ की समस्या :-

जलशक्ति मंत्री महेंद्र सिंह ने पत्रकार वार्ता को संबोधित करते हुए बताया कि जनपद के तीनों तहसीलों बलरामपुर, तुलसीपुर, उतरौला के दर्जनों गांव पानी से घिरे है। जिला प्रशासन द्वारा कराये जा रहे राहत कार्यो की प्रशंसा करते हुए कहा कि जनपद में राहत कार्य के बेहतर ढंग से इंतजाम किए गये है।

तेज़ी के साथ किए जाएं राहत और बचाव के काम :-

उन्होंने बताया कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की मंशा है कि बाढ़ प्रभावितों को हर स्तर तक राहत तेजी के साथ पहुंचाई जाए। खाने-पीने की सामग्री, टॉर्च, इमरजेंसी लाइट, मोमबत्ती यदि कपड़े नहीं है तो उनके लिए कपड़े की व्यवस्था कराए जाने तथा कटान प्रभावित क्षेत्रों में कार्य योजना बनाकर शीघ्र उस पर अमल किए जाने को लेकर बैठक में अधिकारियों को निर्देशित किया गया है।

ग्राम पंचायत स्तर तक जल्द से जल्द पहुंचे मदद :-

बाढ़ प्रभावितों को शीघ्र राहत पहुंचाने के लिए ब्लॉक स्तर पर नियंत्रण कक्ष स्थापित किए जाने व ग्राम पंचायत अधिकारी, रोजगार सेवकों के माध्यम से राहत कार्य की निगरानी की बात मंत्री ने कही है।

बाढ़ से सुरक्षित है उत्तर प्रदेश :-

जल शक्ति मंत्री डॉ महेन्द्र सिंह ने कहा कि उत्तर प्रदेश बाढ़ से सुरक्षित है। यूपी के बलरामपुर अनाचक राहत एवं बचाव कार्य की समीक्षा करने पहुंचे जल शक्ति मंत्री डा. महेन्द्र सिंह ने कहा कि जिस तरह से बाढ़ के लोगों ने काम किया है, पूरी सराहना यहां से लेकर भारत सरकार तक हो रही है, कि कम से कम योगी आदित्नाथ के नेतृत्व में पूरे उत्तर प्रदेश में बाढ़ का काम बहुत अच्छे ढंग से किया गया। पूरे देश के दूसरे प्रांत जहां बाढ़ से पूरी तबाही मची थी वहीं मेरा उत्तर प्रदेश सुरक्षित है। भगवान की बहुत बड़ी कृपा है कि सब अधिकारियों मे मिलकर अच्छा काम किया है। उन्होने कहा कि यदि कहीं कोई विषय आयेगा कहीं का तो हम उसको जरूर दिखवाएंगें।

हवाई सर्वेक्षण कर कहा जिले में केवल पानी है, बाढ़ नहीं :-

जल शक्ति मंत्री ने इससे पहले जिले का हवाई सर्वेक्षण किया इसके बाद बलरामपुर पुलिस लाइन पहुंचकर डीएम, एसपी व बाढ़ संबंधित अधिकारियों से राहत एवं बचाव कार्य की समीक्षा की। इस दौरान जिले के सभी विधायक व पार्टी पदाधिकारी भी मौजूद रहे। जल शक्ति मंत्री से मीडिया से एक वीडियो भी साझा किया जिसमें वे हेलीकाप्टर से जिले के बाढ़ प्रभवित क्षेत्रों को देखते नजर आ रहे हैं और इस तस्वीर में जिले में बाढ़ की भीषण स्थिति साफ नजर आ रही है।

रिपोर्ट – योगेंद्र त्रिपाठी,

Leave a Reply

Your email address will not be published.