बाराबंकी: डायरिया से पीड़ित मरीजों का हाल-चाल जानने पहुंचे मुख्य चिकित्सा अधिकारी

बाराबंकी। मुख्य चिकित्सा अधीक्षक को जिला अस्पताल, बाराबंकी द्वारा सूचित किया गया कि डायरिया/उल्टी के 11 रोगियों को भर्ती किया गया है। तत्पश्चात उल्टी/दस्त रोग से पीड़ित मरीजों के स्वास्थ्य की जानकारी लेने के क्रम में मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ रामजी वर्मा ने मुख्य चिकित्सा अधीक्षक डॉ. बृजेश कुमार के साथ उस वार्ड का निरीक्षण किया, जहां सिद्दौर ब्लाक थाना असंद्रा के तिलैया व इलिचपुर के मरीज भर्ती थे। उक्त रोगियों को प्रदान किये जाने वाले आवश्यक उपचार, औषधि आदि की स्थिति संतोषजनक थी और उनके स्वास्थ्य में लगातार सुधार हो रहा है।  मुख्य चिकित्सा अधिकारी द्वारा अस्पताल परिसर का भी सघन निरीक्षण किया गया, जिसमें ट्रामा सेंटर, आपातकालीन वार्ड, डेंगू वार्ड, पीडियाट्रिक डेंगू वार्ड, ऑर्थो वार्ड, सर्जिकल वार्ड, जे 0 ई 0 वार्ड /ए 0 ई 0 एस 0 वार्ड, बाल रोग विभाग, मेडिसिन वार्ड, कोविड वार्ड का सघन निरीक्षण किया गया।  निरीक्षण के समय डॉ. एस. के. शुक्ला, पैथोलॉजिस्ट, डॉ. आर. के. वर्मा, बाल रोग विशेषज्ञ, डॉ. अवधेश मौर्य आदि उपस्थित थे। निरीक्षण के समय अस्पताल परिसर व वार्डों में साफ-सफाई व्यवस्था उत्तम थी।
 
उक्त के क्रम में मुख्य चिकित्सा अधिकारी ने अधीक्षक, सिद्धौर को निर्देशित किया कि उक्त गांव में टीम भेजकर निरोधात्मक कार्यवाही करें तथा मुख्यालय के संक्रामक रोग नियंत्रण कक्ष से टीम को उक्त गांव में निरोधात्मक कार्यवाही हेतु रवाना किया और सभी को चेतावनी दी गई कि निरोधात्मक कार्यवाही और उपचार में किसी भी प्रकार की लापरवाही क्षम्य नहीं होगी।

इसके अलावा गरीब कल्याण दिवस पर जिले में स्वास्थ्य शिविर का आयोजन किया जा रहा है। विकासखंड हरख में संचालित स्वास्थ्य शिविर का निरीक्षण किया गया।  निरीक्षण के समय 81 लोगों का पंजीयन किया गया था।  कोविड-19 बूथ का निरीक्षण किया गया जहां आरटीपी आर टेस्ट के लिए 32 लोगों के सैंपल लिए गए थे।  वहीं 32 लोगों का कोविड-19 टीकाकरण किया जा चुका है। स्वास्थ्य मेले में कोविड-19 जांच के लिए पर्याप्त मात्रा में किट व आवश्यक दवाएं उपलब्ध थीं।
 
इसी के क्रम में विकासखंड मसौली में आयोजित मेले में स्वास्थ्य शिविर का निरीक्षण किया गया। ओपीडी में-76 मरीजों का स्वास्थ्य परीक्षण किया गया। 22 आयुष्मान कार्ड बांटे गए। कोविड जांच के लिए 22 लोगों के आरटी पीसीआर सैंपल और 41 एंटीजन टेस्ट किए गए।  आरबीएसके के तहत 35 बच्चों की काउंसलिंग की गई और आरएनटीसीपी में 06 मरीज देखे गए। 

रिपोर्ट-सरदार परमजीत सिंह

Leave a Reply

Your email address will not be published.