बाहुबली रिजवान जहीर ने योगी के खिलाफ की अभद्र टिप्पणी, सीधे दी सीएम को चुनौती!

अतीक और मुख्तार के बाद उत्तर प्रदेश के बाहुबली नेताओं में होती है रिजवान जहीर की चर्चा लेकिन रिजवान जहीर को नहीं है उत्तर प्रदेश में योगी सरकार का खौफ।

बलरामपुर का जिला प्रशासन बाहुबली नेताओं को अभी तक नहीं पढ़ा पाया है योगी सरकार में कानून का पाठ , दल बदलने में माहिर रिजवान जहीर भाजपा के कुछ नेताओं के इतना नजदीक हैं कि बलरामपुर का जिला प्रशासन उनके इशारे पर चलता है और बलरामपुर में रहकर वह खुलेआम मुख्यमंत्री के संवैधानिक पद पर आसीन योगी आदित्यनाथ को ऐसा अपमानित करते हैं कि योगी की, धोती खोल कर उन्हें गोरखपुर भेज देने की धमकी भी देते हैं लेकिन फिर भी बलरामपुर का पुलिस प्रशासन उनका कुछ भी नहीं बिगाड़ पाता ।

सपा के पूर्व सांसद रिज़वान ज़हीर ने भाजपा नेता व सूबे के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ पर आपत्तिजनक टिप्पणी करते हुए, उनकी धोती खोलकर गोरखपुर भेजने की बात एक सभा के दौरान कही।

कई पार्टियों में रह चुके पूर्व सांसद सपा नेता रिजवान जहीर बीते बुधवार को बलरामपुर सदर विधानसभा क्षेत्र के अंतर्गत आने वाले महदैया मोड़ पर किसान सम्मान समारोह में जनता को संबोधित कर रहे थे। उसी दौरान उन्होंने असदुद्दीन ओवैसी पर टिप्पणी करते हुए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को कहा था कि एक साहब है, जो बार-बार यहां आते हैं और ख़ूब बोलते हैं। लेकिन उन दोनों भाइयों को कुछ नहीं कहा जाता। जबकि हम ज़बान भी खोल दें। तो रासुका लगा दिया जाता है। योगी जी तुम रासुका से हमारा कुछ नहीं बिगाड़ पाओगे। इस बार बाबा को उनकी धोती खोलकर गोरखपुर भेजने का काम किया जाएगा। इंशा अल्लाह…।

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री और गौरक्ष पीठ के महंत योगी आदित्यनाथ के खिलाफ दिए गए अपमानजनक बयान को लेकर बीजेपी में नाराजगी है बलरामपुर के विधायक और सैनिक कल्याण मंत्री पलटू राम ने कहा है कि रिजवान जहीर ने मुख्यमंत्री का अपमान करते हुए बेहद घटिया बयान दिया है उनकी यह हरकत आसमान पर थूकने जैसी है।

रिजवान जहीर को बलरामपुर और आसपास के कई जिलों में दबंग बाहुबली नेता के तौर पर जाना जाता है उनके ऊपर पहले भी मुकदमे रहे हैं उनके बयान से तो साफ लगता है कि योगी सरकार में भी उन्हें पुलिस प्रशासन और कानून का कोई खौफ नहीं इसीलिए जनता के द्वारा निर्वाचित मुख्यमंत्री पद पर बैठे एक धार्मिक व्यक्ति के खिलाफ अपमानजनक भाषा के इस्तेमाल से उन्हें परहेज नहीं है।

बलरामपुर से द इंडियन ओपिनियन के लिए योगेंद्र त्रिपाठी की रिपोर्ट

Leave a Reply

Your email address will not be published.