बीजेपी एवं निषाद पार्टी साथ मिलकर लड़ेंगे उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव, हुआ गठबंधन का ऐलान।

उत्तर प्रदेश के अगले साल होने वाले विधानसभा चुनाव से पहले बीजेपी अपनी चुनावी तैयारियों में जुट गई है। यूपी मुख्य चुनाव प्रभारी धर्मेंद्र प्रधान ने तीन दिनों तक सह प्रभारियों की बैठक लेने के बाद शुक्रवार को निषाद पार्टी के साथ गठबंधन का एलान किया। दरअसल निषाद पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष संजय निषाद लंबे समय से बीजेपी पर अपनी मांगे मनवाने का दबाव बना रहे थे।
बीजेपी मुख्यालय में संवाददाताओं को संबोधित करते हुए धर्मेंद्र प्रधान ने कहा कि पहली बार चुनाव प्रभारी बन के बाद तीन दिनों से यूपी में हूं। आज सुखद संयोग है की मैं भी यहां मौजूद हूँ। निषाद पार्टी के साथ 2022 का चुनाव पूरी ताकत के साथ लड़ेंगे। इसकी औपचारिक घोषणा की गई है। इसके अलावा अपना दल भी हमारे साथ जुड़ा है।


प्रधान ने कहा कि सामाजिक ताने बाने को आगे ले जाने के लिए इसको किया गया है। इस गठबंधन के अपने मायने हैं। इसको साथ लेकर कार्य किया जाएगा। “उज्वला योजना” को इसी प्रदेश से लॉन्च किया गया था, जो पूरे देश में एक वट वृक्ष बन चुका है। इससे पहले प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्रदेव सिंह ने निषाद पार्टी साथ 2022 के विधानसभा चुनाव में गठबंधन का एलान किया।
उत्तर प्रदेश में चुनाव से पहले अहम फैसला लेते हुए बीजेपी ने निषाद पार्टी के साथ गठबंधन करने का फैसला किया है। सीएम योगी के आवास पर गुरुवार रात को हुई कोर कमेटी की बैठक में इसको लेकर अंतिम फैसला किया गया। भाजपा की कोर कमेटी में विधानसभा चुनाव से पहले चार मनोनित सदस्यों पर सहमति दे दी है।


निषाद पार्टी हमेशा से यह कहती रही है कि पूर्वांचल में उसका सबसे बड़ा संख्याबल और ताक़त है। पूर्वी उत्तर प्रदेश के इलाके में निषाद समुदाय की अच्छी-खासी आबादी है। वर्ष 2016 में गठित निषाद पार्टी का खासकर निषाद, केवट, मल्लाह, बेलदार और बिंद बिरादरियों में अच्छा असर माना जाता है।
गोरखपुर, देवरिया, महराजगंज, जौनपुर, संत कबीरनगर, बलिया, भदोही और वाराणसी समेत 16 जिलों में निषाद समुदाय के वोट जीत-हार में बड़ी भूमिका अदा कर सकते हैं। संजय निषाद दावा करते हैं कि प्रदेश की 100 से ज्यादा विधानसभा सीटों पर निषाद वोट जिताने या हराने की ताकत रखता है।
धर्मेंद्र प्रधान ने कहा कि यूपी का चुनाव हमारे लिए काफी महत्वपूर्ण है। 2022 के चुनाव में बीजेपी पूरी तरह सफल होगी। और पार्टी पूरी ताकत के साथ चुनाव लडेगी। उन्होने कहा कि सम्मान जनक सीटों पर फैसला किया जाएगा। सीएम फेस को लेकर कहा कि मोदी और योगी के नेतृत्व में चुनाव लडा जायेगा।
धर्मेंद्र प्रधान ने कहा कि हम सभी समाज को लेकर आगे जाना है। ऐसा नही है की हमारे पास लीडर नही है लेकिन सबको साथ लेकर चलना हमारा मकसद है और इसी को ध्यान में रखकर सर्व समाज को लेकर आगे बढ़ रहे हैं। किसान आंदोलन को लेकर कि किसानों की आमदनी दोगुनी करने के लिए मोदी सरकार लगातार काम कर रहे है, और किसानों का समर्थन पूरी तरह से पीएम मोदी जी के साथ हैं। सबका साथ सबका विकास और सबका विश्वास के मंत्र को लेकर आगे बढ़ रहे हैं। अन्य दलों के साथ गठबंधन को लेकर धर्मेन्द्र ने कहा कि सबको सबके साथ बातचीत चल रही है। जैसे जैसे समय आगे बढ़ेगा वैसे वैसे आपको जानकारी दी जाएगी।
उत्तर प्रदेश में 2022 में होने वाले विधानसभा चुनाव में उत्तर प्रदेश भारतीय जनता पार्टी के चुनावी चेहरा तथा नेतृत्व को लेकर चुनाव प्रभारी धर्मेन्द्र प्रधान ने शुक्रवार को स्थिति स्पष्ट कर दी। भाजपा प्रदेश मुख्यालय में उत्तर प्रदेश के विधानसभा चुनाव प्रभारी धर्मेन्द्र प्रधान ने बड़ा बयान दिया।
नरेन्द्र मोदी सरकार में शिक्षा, कौशल विकास एवं उद्यमिता मंत्री धर्मेन्द्र प्रधान ने कहा कि 2022 में उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव योगी आदित्यनाथ के नेतृत्व में ही लड़ा जाएगा। सीएम योगी आदित्यनाथ ही उत्तर प्रदेश में भाजपा का चेहरा होंगे। प्रदेश के सीएम योगी आदित्यनाथ ही भाजपा की तरफ से मुख्यमंत्री का चेहरा होंगे। प्रधान ने कहा कि भाजपा ने फिलहाल तय किया है कि अपना दल तथा निषाद पार्टी के साथ गठबंधन में 2022 का विधानसभा चुनाव लड़ा जाएगा। इसके साथ ही अन्य दलों से भी वार्ता जारी है। 2022 में भाजपा सहयोगी दलों के साथ मिलकर पीएम मोदी व सीएम योगी के नेतृत्व में कार्यकर्ताओं के दम पर चुनाव लड़ेगी।
प्रधान ने कहा कि पीएम नरेन्द्र मोदी और सीएम योगी आदित्यनाथ पर जनता का अटूट भरोसा है। 2022 में उत्तर प्रदेश में एक बार फिर से भाजपा व सहयोगी दलों की सरकार बनेगी। सरकार व संगठन के काम व समन्वय के कारण हम जीतेंगे। हम सभी समाज और समुदाय को साथ लेकर चुनाव लड़ेंगे। भाजपा ने इस बीच में बहुत सारी राजनीतिक ताकत को अपने साथ जोड़ा है।

रिपोर्ट – आर डी अवस्थी

Leave a Reply

Your email address will not be published.