भाजपा पिछड़ा वर्ग मोर्चा सम्मेलन को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने किया सम्बोधित।

उत्तरपदेश विधानसभा चुनाव से पहले भाजपा ने समाज के हर वर्ग और जाति को जोड़ने के लिए सामाजिक प्रतिनिधि सम्मेलन कर रही है। शुक्रवार को लखनऊ के पंचायत भवन में सम्मेलन हुआ। यहां पर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने लोनिया और चौहान समाज के लोगों को संबोधित किया। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 2014 में “सबका साथ सबका विकास” का नारा दिया था। कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटाकर आतंकवाद के ताबूत में अंतिम कील ठोंक दी गई। यह सब भाजपा सरकार में हुआ है।

सम्मेलन में मुख्यमंत्री ने कहा कि “वंदेमातरम” भारत का राष्ट्रगीत है। जिस गीत को गाते-गाते भारत के क्रांतिकारी फांसी के फंदे पर झूल गये थे। स्वतंत्र भारत में उस गीत को गाने पर अगर कोई सरकार, संगठन या संस्था रोक लगाती है। तो उसे उखाड़ फेंकना चाहिए।
उन्होंने कहा कि सपा सरकार में आतंकियों के मुकदमें वापस होते थे। हिंदुओं पर झूठे मुकदमे दर्ज होते थे। राम भक्तों पर गोली चलाई जाती थी। और आतंकियों की आरती उतारी जाती थी। अब उनका सफाया किया जा रहा है। यह भाजपा और दूसरी सरकारों में फर्क है,
मुख्यमंत्री ने कहा कि भाजपा सरकार में गांव, गरीब, महिलाओं व युवाओं के डेवलपमेंट के कार्य हो रहे हैं। इसका एक ही मकसद है कि हम सब एकजुट होंगे। तब ही विकास होगा।

उन्होंने कहा कि जब सपा-बसपा और कांग्रेस की सरकार बनती है। तो उनको अपने-अपने परिवार से फुरसत नहीं होती है। वो आतंकियों के लिए काम करते हैं। जो 2012 में सपा ने करके दिखाया था। हिंदू समाज की भावनाओं को रौंदा जाता था। थाने-तहसीले बिक चुकी थी। अब माफियाओं को पता है कि अगर किसी गरीब की जमीन छीनी तो सरकार का बुलडोजर उनकी छाती पर चढ़ जाएगा।

इंटरनल सिक्योरिटी के मोर्चें पर विपक्षी दलों की सरकारों में आतंकवाद सिर चढ़कर बोलता था। कहीं आतंकवाद, कहीं नक्सलवाद, कहीं अराजकता थी। मंदिरों और मठों पर हमले होते थे। देश की सुरक्षा भी खतरे में थी। कभी चीन तो कभी पाकिस्तान भारत की सीमाओं में घुसपैठ करता था।
कांग्रेस नेतृत्व की सरकार कहती थी कि चुप हो जाओ, मत बोलना। 2014 के पहले रोज एक नया घोटाला आ जाता था, कांग्रेस नेतृत्व की यूपीए की सरकार देश की कीमत पर राजनीति कर रही थी।

रिपोर्ट – आर डी अवस्थी

Leave a Reply

Your email address will not be published.