लव जिहाद और धर्म परिवर्तन से दुखी थे नरेंद्र गिरी,पीएम मोदी और मुस्लिम धर्मगुरुओं से की थी अपील!

प्रयागराज: अखाड़ा परिषद के राष्ट्रीय अध्यक्ष स्वामी नरेंद्र गिरी के संदिग्ध मौत के बाद पूरा देश उन्हें याद कर रहा है ऐसे में उन विषयों की भी चर्चा हो रही है जो उन्होंने प्रमुखता से उठाए थे ।

पिछले महीनों उत्तर प्रदेश एटीएस के द्वारा भारत में हिंदुओं के सुनियोजित धर्म परिवर्तन कराए जाने के एक बड़े रैकेट का खुलासा होने पर स्वामी नरेंद्र गिरी ने दुख व्यक्त किया था उन्होंने देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से अपील की थी कि हिंदुओं के खिलाफ चलाए जा रहे सुनियोजित धर्म परिवर्तन और लव जेहाद अभियान को रोकने के लिए कठोर कानून बनाये। स्वामी नरेंद्र गिरी ने कहा था कि मुस्लिम देशों से भारत में हिंदुओं के धर्म परिवर्तन कराने के लिए बड़े पैमाने पर गोपनीय फंडिंग हो रही है हजारों एजेंट इस काम के लिए सक्रिय हैं और उन्हें काफी पैसे दिए जा रहे हैं गरीब कमजोर हिंदुओं को कहीं पैसों की लालच से तो कहीं हिंदू धर्म के खिलाफ दुष्प्रचार करके उनका ब्रेनवाश किया जा रहा है और हिंदू धर्म और देश को नुकसान पहुंचाने के लिए हिंदुओं का धर्म परिवर्तन कराया जा रहा है ।

इसी तरह उन्होंने “लव जिहाद” के बढ़ते मामलों पर भी चिंता जताई थी उनका कहना था कि नाम बदलकर अपनी पहचान छुपा कर लड़कियों को प्रेम जाल में फंसाना उनका शोषण करना या फिर उनका धर्म परिवर्तन करके उनसे निकाह करवा लेना, देश के कई राज्यों में बड़े पैमाने पर ऐसा हो रहा है ऐसी घटनाओं से देश का सांप्रदायिक वातावरण भी बिगड़ रहा है हिंदू और मुसलमानों के बीच में नफरत भी बढ़ रही है इसलिए मुस्लिम समाज के विद्वानों को आगे आना चाहिए और ऐसी घटनाओं पर रोक लगाने का प्रयास करना चाहिए जिससे हिंदुओं और मुसलमानों के बीच अच्छे संबंध बने रहें।

इतना ही नहीं स्वामी नरेंद्र गिरी इन विषयों पर ने मीडिया से बातचीत में कहा था कि केंद्र सरकार को गंभीरता से लेते हुए पूरे देश में एक कठोर कानून लागू होना चाहिए जिससे ऐसी समस्याओं पर रोक लग सके और देश में शांति व्यवस्था बनी रहे।

द इंडियन ओपिनियन

Leave a Reply

Your email address will not be published.