सिर्फ 5 महीने में 7.8 हजार दबिश! आबकारी विभाग ने झांसी मंडल में शराब माफियाओं को ध्वस्त किया!

उत्तर प्रदेश की योगी सरकार प्रदेश में हर तरह के माफियाओं के खिलाफ विशेष अभियान चला रही है इसी क्रम में लंबे समय से उत्तर प्रदेश में सक्रिय शराब माफियाओं के नेटवर्क को पूरी तरह से समाप्त करने के लिए आबकारी विभाग ने पहली बार एक बड़ा अभियान चलाया है।

प्रतिदिन प्रदेश के सभी जिलों में आबकारी विभाग चला रहा है अवैध शराब के विरुद्ध अभियान:

एसआर भूसरेड्डी, अपर मुख्य सचिव आबाकारी एवं गन्ना विभाग उत्तर प्रदेश

पहले जहां आबकारी विभाग साल में कुछ खास मौकों पर बड़े अभियान चलाता था वहीं अब लगातार यह अभियान अनवरत चलाया जा रहा है मुख्यमंत्री और विभागीय मंत्री के निर्देश पर विभाग के अपर मुख्य सचिव एसआर भूसरेड्डी, आबकारी आयुक्त सेंथिल पांडियन ने एक खास रणनीति तैयार की है जिसके तहत उत्तर प्रदेश के सभी जनपदों में प्रतिदिन अवैध शराब के खिलाफ अभियान चलाया जा रहा है।

आबकारी आयुक्त सेंथिल पांडियन सी

बुंदेलखंड में अब नहीं रहे शराब माफियाओं के अच्छे दिन :

बुंदेलखंड क्षेत्र में दुर्गम प्राकृतिक स्थितियों पहाड़ों और जंगलों की वजह से अवैध शराब के कारोबारियों ने नेटवर्क बना रखा था तमाम गांव और कस्बों में कच्ची शराब का निर्माण और बिक्री का काम किया जा रहा था।

लेकिन विभाग की नई रणनीति से कार्यवाही में तेजी आई है और कई गुना अधिक गति और प्रभाव के साथ अवैध शराब कारोबारियों पर कठोर प्रहार किया जा रहा है।


द इंडियन ओपिनियन टीम ने झांसी मंडल में अवैध शराब के खिलाफ चलाए जा रहे अभियान का जायजा लिया तो उत्साहजनक जानकारियां सामने आई।

कई गुना अधिक बढ़ गई है आबकारी विभाग की कार्यवाही :

आबकारी विभाग के सूत्रों के मुताबिक मात्र इस वर्ष जून से सितंबर तक कार्रवाई का जो विवरण सामने आया है वह वाकई में प्रशंसनीय है।

इस अवधि के भीतर 7800 से अधिक स्थानों पर छापेमारी की गई है 912 से अधिक मुकदमे दर्ज कराए गए हैं स 550 लोगों को गिरफ्तार किया गया है। 50,000 लीटर से ज्यादा अवैध शराब बरामद की गई है और 380000 लीटर से ज्यादा लहन यानी अवैध शराब बनाने की सामग्री को बरामद और नष्ट किया गया है इस दौरान छह वाहनों को भी अवैध शराब के परिवहन में इस्तेमाल किए जाने की वजह से जप्त किया गया है।

अपर मुख्य सचिव और आबकारी आयुक्त की नई रणनीति से अधिकारियों कर्मचारियों में भी खौफ:

यह कार्रवाई सिर्फ झांसी मंडल की है और आंकड़े बता रहे हैं कि यह कार्रवाई पूरे प्रदेश में चल रहे आबकारी विभाग के महाअभियान की सफलता का प्रतिबिंब है।

सुनील कुमार मिश्र, उप आबकारी आयुक्त झांसी

झांसी मंडल में आबकारी विभाग के डिप्टी कमिश्नर सुनील कुमार मिश्रा कहते हैं कि “विभाग के अपर मुख्य सचिव और आबकारी आयुक्त महोदय के कठोर निर्देश है कि किसी भी कीमत पर अवैध शराब का निर्माण परिवहन और बिक्री बर्दाश्त नहीं की जाएगी और लापरवाह कर्मचारियों और अधिकारियों के विरुद्ध भी कठोर कार्रवाई हो रही है।

इसी निर्देश को गंभीरता से लेते हुए प्रतिदिन हमारी टीम में मंडल के अलग-अलग स्थानों पर छापेमारी कर रही हैं आबकारी विभाग के इतिहास में यह एक बड़ा अभियान है जिस को सफल बनाने के लिए पूरी टीम जी जान से काम कर रही है नेटवर्क बनाकर सूचनाएं संकलित की जाती हैं और उन पर प्रभावी कार्यवाही की जाती है।”

द इंडियन ओपिनियन झांसी, दीपक मिश्रा विशेष संवाददाता

Leave a Reply

Your email address will not be published.