सैन्य सम्मान के साथ निकली शहीद लांस नायक की अंतिम अंतिम यात्रा।

डीएम एसपी व सेना के अधिकारियों की मौजूदगी में अंतिम संस्कार

पार्थिव शरीर गांव में पहुंचते ही हर आंख से निकले आंसू

बिलग्राम के बेहटी खुर्द गांव निवासी सत्यम पाठक का ड्यूटी पर हुआ था निधन

हरदोई के बिलग्राम इलाके के रहने वाले सेना के लांस नायक सत्यम पाठक का शव जैसे ही गांव पहुंचा यहां मौजूद हजारों लोग रो उठे। लांस नायक की अंतिम यात्रा में भारत माता की जय और सत्यम पाठक अमर रहे के नारे गूँजते रहे।

डीएम अविनाश कुमार, एसपी अजय कुमार व अन्य प्रशासनिक अधिकारियों व सेना के अधिकारियों की मौजूदगी में उनका अंतिम संस्कार किया गया। लांस नायक के निधन पर सीएम योगी ने शोक जताया और परिवार को 50 लाख आर्थिक मदद, एक व्यक्ति को नौकरी व जिले की एक सड़क का नाम लांस नायक के नाम पर करने की घोषणा की है और हर संभव मदद का भरोसा दिलाया है।

बतादें की 16 अक्टूबर को लेह लद्दाख में सत्यम पाठक तापमान की विषम परिस्थितियों (-30 डिग्री) में हृदयाघात होने के कारण शहीद हो गए थे। सोमवार को शहीद का पार्थिव शरीर आर्मी के वाहन से गांव पहुंच गया था। शहीद हरदोई जिले के बेहटी खुर्द गांव निवासी सैनिक सत्यम पाठक का पार्थिव शरीर उनके पैतृक आवास पर पहुंचा। सत्यम पाठक का पूरा गांव देश भक्ति के नारों से गूंज उठा।

सुबह शहीद का पार्थिव शरीर जैसे ही घर पर पहुंचा सत्यम पाठक की माता और पत्नी रामलली शव से लिपट कर बिलखने लगे। तमाम लोगो ने परिजनों को ढांढस बंधाया। शहीद के अंतिम दर्शन के लिए लोगों की भीड़ उमड़ पड़ी वहीं पूरा गांव देश भक्ति के नारों से गूंज उठा, शहीद के अंतिम संस्कार में बड़ी संख्या में लोग पहुंचे। इस दौरान ‘जब तक सूरज चांद रहेगा सत्यम पाठक तेरा नाम रहेगा,सहित कई और देश भक्ति नारे लगाए गए।

हरदोई से शिवहरि दीक्षित की रिपोर्ट

Leave a Reply

Your email address will not be published.