शराब नीति को लेकर देश के अग्रणी सामाजिक कार्यकर्ता अन्ना हजारे ने मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल को पत्र लिखकर दी नसीहत-

शराब नीति  में कथित घोटाले मामले को लेकर दिल्ली की अरविंद केजरीवाल सरकार  विरोधियों के निशाने पर हैं। इसी बीच अब शराब नीति को लेकर अरविंद केजरीवाल अब अपने गुरु और सामाजिक कार्यकर्ता अन्ना हजारे के निशाने पर आ गए हैं।

अन्ना हजारे ने मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल को पत्र लिखकर नसीहत दी है। अन्ना ने केजरीवाल से कहा, आपने ‘स्वराज’ नाम की किताब में कितनी आदर्श बातें लिखी थी। आप से बड़ी उम्मीद थी, लेकिन, लगता है राजनीति में जाने और मुख्यमंत्री बनने के बाद आप आदर्श विचारधारा को भूल गए हैं।

आज पहली बार उन्होंने शराब नीति को लेकर अपने विचार सामने रखे है। शराब नीति को लेकर अन्ना हजारे दिल्ली सरकार पर जमकर बरसे है। उन्होंने केजरीवाल के विचारों को कोट करते हुए बताया कि आपने ही अगर किसी जगह पर शराब को परमिट देना है ऐसे में उस ग्राम सभा का प्रस्ताव पास होना चाहिए।

अन्ना हजारे ने इस चिट्ठी के माध्यम से ये भी बता रहे हैं कि अरविंद केजरीवाल की कथनी और करनी में फर्क है। उन्होंने अपनी इस चिट्ठी में लोकपाल को लेकर हुए आंदोलन का जिक्र कर इसे गैर राजनीति आंदोलन भी बताया। अपने लंबे खत में अन्ना ने लिखा अगर इस प्रकार लोकशिक्षण लोकजागृति का काम होता तो देश में कहीं पर भी शराब की ऐसी गलत नीति नहीं बनती।

 

ब्यूरो रिपोर्ट ‘द इंडियन ओपिनियन’

Leave a Reply

Your email address will not be published.