बुंदेलखंड एक्सप्रेस वे का हुआ आज उद्घाटन, नरेंद्र मोदी ने किया 296 किमी बुंदेलखंड एक्सप्रेस वे का उद्घाटन

बुंदेलखंड एक्सप्रेसवे के बारे में जिसका उद्घाटन आज नरेंद्र मोदी के हाथो किया गया है-

29 फरवरी, 2020 को, प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने 296 किलोमीटर लंबे बुंदेलखंड एक्सप्रेसवे की आधारशिला रखी, जो राज्य में पिछड़े क्षेत्रों को राष्ट्रीय राजधानी से जोड़ने वाला चार लेन वाला नियंत्रित-पहुंच राजमार्ग है। यह उत्तर प्रदेश के चित्रकूट, बांदा, हमीरपुर और जालौन जिलों से होकर गुजरेगा और बुंदेलखंड क्षेत्र को आगरा-लखनऊ एक्सप्रेसवे और यमुना एक्सप्रेसवे के जरिए दिल्ली से जोड़ेगा।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 16 जुलाई 2022 को जालौन जिले के कठेरी गांव में बुंदेलखंड एक्सप्रेसवे परियोजना का उद्घाटन करेंगे। इससे पहले, बुंदेलखंड एक्सप्रेसवे को पूरा करने की तारीख 14 जनवरी, 2023 तय की गई थी। इसे तय समय से पहले केवल 28 महीनों में पूरा किया गया है।

बुंदेलखंड एक्सप्रेसवे आगरा-लखनऊ एक्सप्रेसवे और यमुना एक्सप्रेसवे से जुड़ेगा। यह राज्य के सबसे पिछड़े क्षेत्रों के विकास और अर्थव्यवस्था को बढ़ावा देते हुए यूपी के बुंदेलखंड क्षेत्र के चित्रकूट से दिल्ली की यात्रा के समय को 12 घंटे से घटाकर लगभग 5-6 घंटे कर देगा।

बुन्देलखण्ड एक्सप्रेस-वे के बन जाने से चित्रकूट, बांदा, महोबा, हमीरपुर और जालौन के लोगों के लिए दिल्ली का सफर आसान हो जाएगा. इस एक्सप्रेस-वे पर 250 से ज्यादा छोटे पुल, 15 से ज्यादा फ्लाईओवर, 6 टोल प्लाजा और 12 से ज्यादा बड़े पुल और 4 रेल पुल बनाए गए हैं. 24 घंटे पुलिस पेट्रोलिंग और एंबुलेंस की सुविधा भी उपलब्ध कराई जाएगी |

बुंदेलखंड एक्सप्रेस-वे की लंबाई 296 किलोमीटर है. चार लेन चौड़े बुंदेलखंड एक्सप्रेस-वे के दोनों तरफ अतिरिक्त जमीन भी है जिससे भविष्य में अगर गाड़ियों की आवाजाही बढ़े तो इसको चौड़ा कर 6 लेन तक बढ़ाया जा सके |

एक बार चालू हो जाने के बाद, बुंदेलखंड एक्सप्रेसवे को सुचारू ट्रैफिक कॉरिडोर के जरिए दिल्ली और एनसीआर के साथ वाया आगरा-लखनऊ एक्सप्रेसवे और यमुना एक्सप्रेसवे जोड़ा जाएगा। बुंदेलखंड एक्सप्रेसवे रूट मैप के अनुसार, ग्रीनफील्ड, बुंदेलखंड एक्सप्रेसवे रोड चित्रकूट जिले के भरतकूप के पास से शुरू होकर इटावा जिले के कुदरैल गांव में आगरा-लखनऊ एक्सप्रेसवे से मिल जाएगा।

बुंदेलखंड एक्सप्रेसवे रूट चित्रकूट, बांदा, महोबा, हमीरपुर, जालौन, औरैया और इटावा जैसे जिलों को कवर करेगा।

इसके अलावा, बुंदेलखंड एक्सप्रेसवे रूट के पास केन, बेतवा, यमुना, बागान, चंद्रवाल, बिरमा और सेंगर जैसी प्रमुख नदियाँ गुजरती हैं।

बुंदेलखंड एक्सप्रेसवे: इस प्रोजेक्ट से यूपी को क्या होगा फायदा?

बुंदेलखंड एक्सप्रेसवे के निर्माण से आर्थिक विकास को बल मिलेगा, ख़ास तौर पर सबसे पिछड़े क्षेत्रों में। यह कृषि, वाणिज्य, औद्योगिक और पर्यटन क्षेत्रों को भी बढ़ावा देगा। पूरे क्षेत्र में निवेश को बढ़ावा देने के लिए बुंदेलखंड एक्सप्रेसवे रूट के साथ औद्योगिक गलियारा (इंडस्ट्रियल कॉरिडोर) विकसित करने की योजना है। कई मैन्युफैक्चरिंग इकाइयां, विकास केंद्र और कृषि उत्पादक क्षेत्र राष्ट्रीय राजधानी से जुड़ेंगे। उद्यमी इस क्षेत्र में औद्योगिक प्रशिक्षण एवं शैक्षणिक तथा चिकित्सा संस्थान खोल सकेंगे।

बुंदेलखंड क्षेत्र में हथकरघा, खाद्य प्रसंस्करण, डेयरी, भंडारण और पारंपरिक मध्यम और लघु-स्तरीय औद्योगिक इकाइयों जैसे उद्योगों को भी बल मिलेगा, जिसकी बहुत जरूरत है।

यह परियोजना 15,000 करोड़ रुपये की लागत से बनाई जा रही है और इससे पूरे क्षेत्र में लोगों के जीवन को बदलने की उम्मीद है। परियोजना की आधारशिला रखते हुए, पीएम मोदी ने कहा कि एक्सप्रेसवे क्षेत्र और बड़े शहरों में सुविधाओं के बीच बेहतर कनेक्शन की सुविधा प्रदान करेगा, क्योंकि हजारों निवासी बेहतर रोजगार के अवसरों के लिए आसानी से आगे बढ़ सकेंगे।

एक्सप्रेसवे नई दिल्ली और चित्रकूट के बीच यात्रा के समय को घटाकर छह घंटे कर देगा। एक्सप्रेसवे झांसी से शुरू होता है और राज्य के सबसे पिछड़े जिलों जैसे चित्रकूट से होकर गुजरता है, जो एक धार्मिक और पर्यटन स्थल, बांदा, हमीरपुर, औरैया और जालौन भी है। जालौन से यह इटावा जाती है और आगरा-लखनऊ एक्सप्रेसवे से जुड़ने से पहले आगरा में बटेश्वर होते हुए नसीमपुर पहुँचती है।

UPEIDA ने तीन एक्सप्रेसवे परियोजनाओं –

पूर्वांचल एक्सप्रेसवे, बुंदेलखंड एक्सप्रेसवे और गोरखपुर लिंक एक्सप्रेसवे पर 1,844 करोड़ रुपए की लागत की बचत की। तीनों परियोजनाओं के लिए निर्माण कार्य ई-टेंडर के माध्यम से दिया गया था। UPEIDA के मुख्य अभियंता मनोज कुमार गुप्ता ने कहा कि पूर्वांचल एक्सप्रेसवे में न्यूनतम निविदा अनुमानित लागत से लगभग 5.19% कम हो गई, जिससे लगभग 614 करोड़ रुपए का फायदा हुआ। उन्होंने बताया कि इसी तरह, बुंदेलखंड एक्सप्रेसवे परियोजना में न्यूनतम निविदा अनुमानित लागत से लगभग 12.72% कम हो गई, जिससे लगभग 1,132 करोड़ रुपए का फायदा हुआ। उन्होंने कहा कि गोरखपुर लिंक एक्सप्रेसवे परियोजना में न्यूनतम निविदा अनुमानित लागत से 3.12% कम हुई, जिससे लगभग 98 करोड़ रुपए का फायदा हुआ।

Leave a Reply

Your email address will not be published.