किसानों के लिए सीएम योगी आदित्यनाथ ने की बड़ी घोषणा-

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने शनिवार को एक उच्चस्तरीय बैठक में प्रदेश में मानसून और फसल बुआई की स्थिति की समीक्षा की। मुख्यमंत्री ने किसानों के हितों को देखते हुए अनेक महत्वपूर्ण निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि किसी भी स्तर पर किसानों को कोई नुकसान नहीं होने दिया जाएगा।बकाए के कारण किसान का बिजली कनेक्शन काटे नहीं जाएंगे। मुख्यमंत्री ने निर्देश दिए कि वर्षा की स्थिति, फसल बोआई की सही स्थिति की विस्तृत रिपोर्ट अगले तीन दिन के भीतर भारत सरकार को भेजी जाए।

साथ ही ट्यूबवेल की तकनीकी खराबी को हर हाल में 24 से 36 घंटे के भीतर ठीक करा दिया जाए। इसे प्राथमिकता के तौर पर किया जाना चाहिए। जहां ट्यूबवेल पर निर्भरता ज्यादा है, वहां सौर पैनल लगाया जाना चाहिए। इस वर्ष 20 अगस्त तक प्रदेश में कुल 284 मिलीमीटर वर्षा दर्ज की गई है। यह वर्ष 2021 में हुई 504.10 मिमी और वर्ष 2020 में हुई 520.3 मिमी वर्षा के सापेक्ष कम है। इस बीच एकमात्र चित्रकूट जिला ऐसा रहा जहां सामान्य (120 प्रतिशत से अधिक) वर्षा हुई। सामान्य वर्षा न होने के कारण खरीफ फसलों की बोआई का कार्य प्रभावित हुआ है।

हालांकि 19 जुलाई के बाद हुई बरसात से स्थिति में काफी सुधार हुआ है। सीएम योगी ने कहा कि कम बारिश की वजह से कई क्षेत्रों में धान की पैदावार पर बुरा असर पड़ने की आशंका है. वर्तमान परिस्थितियों के बीच सब्जी की खेती को प्रोत्साहित करना बेहतर विकल्प हो सकता है। इसलिए तोर के बीज का वितरण कराया जाना सही होगा।

खरीफ अभियान 2022-23 के तहत 20 अगस्त की स्थिति के अनुसार प्रदेश में 96.03 लाख हेक्टेयर के लक्ष्य के सापेक्ष 93.22 लाख हेक्टेयर की बोआई हो सकी है, जो कि लक्ष्य का 97.7 प्रतिशत ही है। गत वर्ष इसी तिथि तक 98.9 लाख हेक्टेयर भूमि पर बोआई हो चुकी थी। बोआई लक्ष्य के अनुरूप है लेकिन कम वर्षा के कारण प्रदेश में फसलों को नुकसान होने की आशंका बनी हुई है।

सीएम योगी ने कहा कि किसानों को मौसम की सही जानकारी देने के लिए राज्य स्तर पर पोर्टल विकसित किया जाए। इसी तरह, फसल बुवाई की विस्तृत जानकारी के लिए डेटा बैंक तैयार किया जाए। किसान की उन्नति के लिए नीति-निर्धारण में यह डेटा बैंक उपयोगी साबित होगा।

 

ब्यूरो रिपोर्ट ‘द इंडियन ओपिनियन’

Leave a Reply

Your email address will not be published.