कांग्रेस सांसदों ने राष्ट्रपति भवन के लिए निकाला मार्च ,राहुल और प्रियंका समेत कई नेता हिरासत में लिए गए-

कांग्रेस ने राजधानी दिल्ली में शुक्रवार को महंगाई, बेरोजगारी, जीएसटी और अग्निपथ योजना के खिलाफ संसद से लेकर राष्ट्रपति भवन तक विरोध प्रदर्शन किया।
पार्टी के तमाम बड़े नेता काले कपड़ों में सरकार के खिलाफ विरोध प्रदर्शन में नजर आए।पुलिस ने उन्हें बीच में ही रोक दिया और हिरासत में ले लिया। महंगाई और बेरोजगारी के खिलाफ कांग्रेस पार्टी आज सड़कों पर उतरी। कांग्रेस के प्रदर्शन के दौरान पार्टी के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी (Rahul Gandhi) और महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा  समेत कई नेताओं को पुलिस ने हिरासत में लिया।

कांग्रेस महंगाई और बेरोजगारी के खिलाफ शुक्रवार को राष्ट्रव्यापी प्रदर्शन कर रही है, जिसके तहत कांग्रेस कार्य समिति (सीडब्ल्यूसी) के सदस्यों एवं पार्टी के
वरिष्ठ नेताओं की प्रधानमंत्री आवास का घेराव करने की योजना थी। आज सुबह संसद भवन में पार्टी सांसद काले कपड़ों में नजर आए। उन्होंने संसद भवन के मुख्य गेट पर सरकार के खिलाफ नारेबाजी की। स्वयं कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी (Sonia Gandhi) ने सांसदों के प्रदर्शन का नेतृत्व किया। बढ़ती महंगाई,बेरोजगारी के मुद्दे पर आज राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने भी कांग्रेस मुख्यालय में प्रेसवार्ता के दौरान जनता को इस मुहिम में आगे आने के लिए अनुरोध किया है।

संसद भवन से पार्टी सांसदों का मार्च शुरू होने से पहले कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी भी इसमें थोड़ी देर के लिए शामिल हुईं। हिरासत में लिए जाने से पहले
राहुल गांधी ने आरोप लगाया कि देश में लोकतंत्र की हत्या की जा रही है। राहुल गांधी ने ट्वीट किया, ‘इस तानाशाह सरकार को डर लग रहा है।

दिल्ली पुलिस ने नयी दिल्ली जिले में धारा 144 लागू होने का हवाला देते हुए शुक्रवार को राष्ट्रीय राजधानी में कांग्रेस को प्रदर्शन की अनुमति नहीं दी थी। वहीं, ट्रैफिक पुलिस के अनुसार प्रदर्शन को ध्यान में रखते हुए सुबह 10 बजे से ट्रैफिक डायवर्जन किया गया है। नई दिल्ली इलाके में धौला कुआं, शंकर रोड, चेम्सफोर्ड रोड, मथुरा रोड, लोधी रोड, अफ्रीका एवेन्यू, रिज रोड, पंचकुइयां रोड, मिंटो रोड, डब्लू पॉइंट, अरबिंदो मार्ग और मोती बाग रेड लाइट से आगे बसों को नहीं जाने दिया जाएगा।

 

ब्यूरो रिपोर्ट ‘द इंडियन ओपिनियन’

Leave a Reply

Your email address will not be published.