जबरिया रिटायर्ड आईजी अमिताभ ठाकुर ने बनाई अपनी पार्टी,हरदोई में खोला पहला दफ्तर!

हरदोई देहात कोतवाली क्षेत्र के पिहानी रोड पर पोखरापुरवा गांव के पास अमिताभ ठाकुर ने अधिकार सेना पार्टी के कार्यालय का उद्घाटन किया। इस अवसर पर पूर्व आईपीएस अधिकारी व अधिकार सेना पार्टी के राष्ट्रीय संयोजक अमिताभ ठाकुर के साथ उनकी पत्नी नूतन ठाकुर भी मौजूद रही। कार्यालय के उद्घाटन के साथ आगामी नगर निकाय व लोकसभा के चुनाव को लेकर कार्यकर्ताओं के साथ बैठक की। अमिताभ ठाकुर ने पुलिस-प्रशासन पर जनपद में कार्यालय उद्घाटन न करने देने का आरोप लगाया है, फिर भी अमिताभ ठाकुर ने हरदोई में अपने प्रथम कार्यालय का अपनी पत्नी नूतन ठाकुर के साथ उद्घाटन किया। शासन के जबरिया रिटायर करने वाले सवाल पर अमिताभ ठाकुर ने कहा सरकार ने द्वेष भावना के साथ हमको जबरन रिटायर किया है, यह मामला न्यायालय में है इसके बारे में ज्यादा बोलना उचित नहीं है। आपको बताते चलें कि पूर्व आईपीएस अधिकारी अमिताभ ठाकुर ने अधिकार सेना पार्टी का हाल ही में गठन किया है, इसके प्रचार-प्रसार में वह जोर-शोर से जुटे है। और आगामी नगर निकाय व लोकसभा चुनाव की तैयारियों के लिए जोर-शोर से कार्यकर्ताओं को जोड़ने का काम कर रहे है, तथा अपना कुनबा बढ़ाते हुए कार्यकर्ताओं के साथ लगातार बैठक कर रहे है। लूलू मॉल में नमाज पढ़ने व हनुमान चालीसा पढ़ने के सवाल पर अमिताभ ठाकुर ने कहा कि देश में जवाबी-कव्वाली की तरह लड़ाई चल रही है। हम देखते थे जैसे कि एक ने जवाब दिया तो फिर दूसरे ने जवाब दिया इस तरीके से जवाबी कव्वाली का मुकाबला होता था, और लोगों का ध्यान भटकाने के लिए यह सब रणनीति के तहत कराया जा रहा है। कुछ विपक्षी दल भी यही चाहते है, जबकि हम चाहते है कि जनता के बुनियादी मुद्दो और जरूरतों पर ध्यान दिया जाए। अमिताभ ठाकुर ने कहा कि सर्वधर्म समभाव के महात्मा गांधी के लक्ष्य के तहत वह एक संगठन शुरू करने जा रहे है, जिसमें वह सभी धर्मों के लोगों को जोड़ने का काम करेंगे। वहीं अमिताभ ठाकुर ने बलिया से चुनाव लड़ने की घोषणा की है, और कहा कि जल्द से जल्द प्रत्याशी उतारने की कोशिश करेंगे, अन्य पार्टियों के पास बहुत से संसाधन है, हमारे लोगों के पास इतने संसाधन नहीं है, हम उन्हे जल्द चुनाव की तैयारियों के लिए क्षेत्र में भेजेंगे। साथ ही यूपी सरकार की 100 दिन की कार्ययोजना के प्रचार प्रसार करने को जनता के पैसे की बर्बादी बताया है, और कहा कि इतने बड़े-बड़े विज्ञापन लगाकर सरकार क्या दर्शाना चाहती है, ये दुःख का विषय है जनता के पैसों को बर्बाद किया जा रहा है, अगर कार्य किया होता तो कार्यकर्ता उपलब्धियां गिनाते नाकि जनता के पैसे से विज्ञापन लगाया जाता, सब जनता के पैसे को लूटने का काम कर रहे है।

रिपोर्ट : सत्येंद्र सिंह हरदोई

ब्यूरो रिपोर्ट ‘द इंडियन ओपिनियन’

Leave a Reply

Your email address will not be published.