फिरोजाबाद में सिपाही भोजन की गुणवत्ता पर सवाल उठाते हुए फूट-फूटकर रो पड़ा-

उत्तर प्रदेश के फिरोजाबाद की पुलिस मेस में खाने की क्वालिटी को लेकर जब बुधवार को कॉन्स्टेबल मनोज कुमार ने दुखड़ा सुनाया तो वहां मौजूद दूसरे पुलिसवाले
पुलिसवाले भी सन्न रह गए।

कॉन्स्टेबल ने कहा कि पुलिस लाइन की मेस में में बहुत निम्न स्तर का खाना बनता है। कच्ची रोटी, दाल में केवल पानी ही खाना बनाया जाता है। इसको लेकर उन् उन्होंने अधिकारियों से भी बात की। इस बारे में अधीक्षक को भी बताया, लेकिन कोई एक्शन नहीं हुआ।

जब कॉन्स्टेबल मीडिया कर्मी से बात कर रहे थे, सिविल लाइंस चौकी के सिपाही जबरन उन्हें पुलिस की जीप में ले गए। इस बीच मेस की खाने की गुणवत्ता से संबंधित कॉन्स्टेबल का वीडियो सामने आने पर फिरोजाबाद पुलिस ने सीओ सिटी को फूड क्वॉलिटी की जांच करने को कहा है।

मीडिया से बातचीत में उन्होंने कहा, ‘यहां पर खाना बेहद खराब स्तर का मिल रहा है, इसीलिए मैं आपके बीच थाली लेकर आया हूं. मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने सभी पुलिस वालों को पौष्टिक आहार के रूप में भत्ता बढ़ाया था अब ऐसी दाल हमें मिल रही है, इसमें केवल पानी पड़ा हुआ, कुछ भी नहीं है, इसके बाद ये रोटियां हैं. यह रोटी देखो, यह कोई क्या खा सकता है क्या?

उसने भोजन की गुणवत्ता को लेकर सवाल खड़े करते हुए कहा कि यह खाना जानवर भी नहीं खा सकते हैं। ऐसी रोटी हमें परोसी जा रही है। जब भरपेट खाना ही नहीं मिलेगा तो ड्यूटी कैसे करेंगे। इस बीच किसी शख्स ने उसका वीडियो बना लिया और सोशल मीडिया पर वायरल कर दिया। इस मामले में पुलिस लाइन के प्रतिसार निरीक्षक देवेंद्र सिंह सिकरवार ने जानकारी दी कि पुलिस कार्यालय के सम्मन सेल में तैनात सिपाही मनोज का पत्नी से विवाद चल रहा है।

इसी के चलते वह परेशान रहता है। बुधवार को मेस में खाने के लिए लाइन लगी थी और कमांडर ने नंबर से ही खाना लेने की बात कही। इसके बाद वह गाली-गलौज करने लगा और खाना लेकर उसे खाने के बजाय बाहर पहुंच गया।

 

ब्यूरो रिपोर्ट ‘द इंडियन ओपिनियन’

Leave a Reply

Your email address will not be published.