उत्तर प्रदेश के कन्नौज जिले में एक दिहाड़ी गरीबी और आर्थिक तंगी से आए दिन परेशान रहने वाला एक मजदूर एक दिन के लिए अरबपति बन गया –

वो कहते है ना जब ऊपर वाला देता है तो छप्पर फाड़ के देता है ऐसी ही दिल दहला देने वाली खबर उत्तर प्रदेस के कन्नौज जनपद से निकल कर आ रही है जहा एक ही दिन में गरीबी और आर्थिक तंगी से आए दिन परेशान रहने वाला एक मजदूर बन गया अरबों रुपये का मालिक l आइए जानते है कैसे यह बड़ा खेल हो गया-

उत्तर प्रदेश के कन्नौज जिले में एक दिहाड़ी मजदूर एक दिन के लिए अरबपति बन गया। अचानक उसके बैंक खाते में अरबों रुपये आने से उसकी खुशी का ठिकाना नहीं रहा और वह चिल्लाकर यह बात पूरे गांव को बताने लगा। उसने यह बात बैंक में जाकर बताई लेकिन यह बहुत बड़ी खुशखबरी उसके जीवन में केवल कुछ घंटों के लिए ही आई थी थोड़ी देर बाद बैंक के खाते से यह रकम गायब हो गई।

कन्नौज जिले के छिबरामऊ कोतवाली क्षेत्र के रहने वाले बिहारी लाल राजस्थान में ईंट-भट्टे पर काम करता हैं। वह गांव में एक बैंक की मिनी ब्रांच से शराब पीने के लिए पैसे निकालने के लिए गए। मिनी ब्रांच वालों ने जैसे ही उनका अकाउंट चेक किया तो वह चौंक गए। जैसे ही उन्होंने खाताधारक को उसके अकाउंट में पड़े हुए रुपए के बारे में जानकारी दी तो वह भी हैरान रह गया। ब्रांच में बताया गया कि आपके बैंक आफ इंडिया के खाते में 31 अरब रुपये अचानक से आ गए हैं। इस बात को सुनते ही मजदूर का शरीर कांपने लगा उसकी खुशी का ठिकाना नहीं था लेकिन वह हैरान और परेशान भी था मामले की पड़ताल करने के लिए वह बैंक ऑफ इंडिया के स्थानीय शाखा पर पहुंचा तो बैंक ऑफ इंडिया के मैनेजर ने उसकी सपनों की उड़ान पर पानी फेर दिया।

मैनेजर ने बताया कि गलती से उसके मोबाइल में कोई स्क्रीनशॉट आ गया जिसमें इतनी बड़ी धनराशि लिखी हुई है उन्होंने बताया कि वह स्क्रीनशॉट कैसे बना है या नहीं पता लेकिन खाताधारक मजदूर के खाते में मात्र 126 रुपये का बैलेंस है उसके खाते में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा शुरू की गई किसान सम्मान निधि योजना के 2000 रुपये आते हैं बस उसी पैसे को निकाल कर यह खर्च कर लेता है।

मिलाकर एक मजदूर कुछ समय के लिए गलती से अरबपति बन गया था लेकिन टेक्नोलॉजी की दुनिया में यह झूठी खुशी एक हवा के झोंके की तरह आई और चली गई ।

ब्यूरो रिपोर्ट द इंडियन ओपिनियन

Leave a Reply

Your email address will not be published.