नेपाल सरकार ने देश के अंदर बढ़ते कोरोना संक्रमण के मामलों को देखते हुए भारत से आने वाले संक्रमित नागरिकों के प्रवेश पर लगाई रोक-

पश्चिमी नेपाल के बैताडी जिले में झूलाघाट सीमा पर भारतीय पर्यटकों को रोक दिया गया। हेल्थ डिपार्टमेंट के एक अधिकारी ने बताया कि इन चारों भारतीय नागरिकों की कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव आई थी, जिसके चलते उन्हें वापस लौटने को कहा गया। भारत से लौटे कई नेपाली नागरिकों में कोविड-19 की पुष्टि हुई। इसलिए नेपाल आने पर उन भारतीयों के प्रवेश पर रोक लगा दी है जो कोरोना से संक्रमित हैं। दरअसल नेपाल का बैताडी जिला भारतीय सीमा से लगा हुआ है और उच्च जोखिम वाला जिला है।

हिमालयी देश ने अपने यहां कोरोना वायरस संक्रमितों की संख्या लगातार बढ़ने के कारण यह कदम उठाया। भारत के चार पर्यटक पश्चिमी नेपाल के बैताडी जिले में झूलाघाट सीमा बिंदु के माध्यम से नेपाल में दाखिल हुए थे । बैताडी जिले में कोरोना वायरस का जोखिम बहुत अधिक है, क्योंकि इसकी सीमायें भारत के साथ लगती है। जिले में अभी 31 मामले उपचाराधीन हैं। मंगलवार को अद्यतन किये गये स्वास्थ्य मंत्रालय के आंकड़ों के अनुसार भारत में संक्रमितों की संख्या बढ़ कर 4,41,74,650 हो गयी है।

नेपाल के स्वास्थ्य और जनसंख्या मंत्रालय के आंकड़ों के अनुसार, देश में मंगलवार को देशभर में कोरोना के 1090 दर्ज किए गए। हैरान करने वाली बात यह है कि यह संख्या पिछले 6 महीनों में सबसे ज्यादा है। नेपाल में कोरोना के 5874 एक्टिव केस हैं। भारत में मंगलवार को पिछले 24 घंटे में कोरोना के 12,751 नए केस मिले हैं, जबकि 29 लोगों की मौत हुई है. स्वास्थ्य मंत्रालय के मुताबिक, वहीं एक्टिव केस की संख्या 1 लाख 31 हजार 807 है. बीते दिन कोविड इंफेक्शन से 16,412 लोग रिकवर भी हुए हैं। दिल्ली में 8 अगस्त तक कोरोना के 8045 एक्टिव मरीज हैं।

 

ब्यूरो रिपोर्ट ‘द इंडियन ओपिनियन’

Leave a Reply

Your email address will not be published.