अपहरण मामले में पहली बार कोर्ट में पेश हुई रुबैया सईद- यासीन मलिक सहित 4 लोगों ने किया था अपहरण

यासीन मलिक (Yasin Malik) समेत चार लोगों ने साल 1989 में रूबिया सईद का अपहरण किया था। रूबिया ने खुद कोर्ट में इसका खुलासा किया। 33 साल पुराने मामले में रूबिया सईद आज पहली बार कोर्ट के सामने पेश हुईं। रूबिया ने यासीन मलिक समेत चार आरोपी की पहचान की है। अपहरणकर्ताओं ने उन्हें पांच आतंकवादियों की रिहाई के बदले आजाद किया था।1990 के दशक में इस मामले की जांच सीबीआई को सौंपी गई थी।13 दिसंबर को अपहर्ताओं ने रुबिया को मुक्त कर दिया था। डियो कांफ्रेंसिंग के जरिये शामिल हुए यासीन मलिक को रूबिया ने पहचान लिया। उसने जज से कहा कि यही वह शख्स है और इसका नाम यासीन मलिक है। शुक्रवार सुबह 10:30 बजे रूबिया टाडा कोर्ट में पेश हुईं। अदालत पहुंचते ही दरवाजा बंद कर लिया गया और बंद दरवाजे में सुनवाई शुरू कर दी गई। 8 दिसंबर 1989 को श्रीनगर के सदर पुलिस स्टेशन में रूबिया के अपहरण की शिकायत दर्ज कराई गई।

बताया गया कि रूबिया सईद मिनी बस में ललदद अस्पताल श्रीनगर से नौगाम स्थित अपने घर जा रही थी। मिनी बस लाल चौक से श्रीनगर के बाहरी इलाके नौगाम की तरफ जा रही थी। जब मिनी बस छानपोरा चौक के पास पहुंची तो उसमें सवार तीन लोगों ने बंदूक निकाली और बस को रोक दिया। 31 साल पुराने रूबिया सई के अपहरण के इस मामले में देश में हड़कंप मच गया था ।

 

ब्यूरो रिपोर्ट ‘द इंडियन ओपिनियन’

Leave a Reply

Your email address will not be published.