एक मंदिर ऐसा भी है, जहां आसपास के लोग बाढ़ आने का करते हैं इंतजार-

उत्तर प्रदेश के प्रयागराज में गंगा-यमुना का पानी बढ़ने से त्राहिमाम मचा हुआ है। लेकिन शहर में एक ऐसा भी मंदिर है, जहां आसपास के लोग बाढ़ आने का इंतजार करते हैं। इस हनुमान मंदिर में बाढ़ का पानी घुसने पर शंखनाद और घड़ियाल बजाकर स्वागत किया जाता है। प्रयागराज के संगम क्षेत्र में माघ मेला तकरीबन 10 किलोमीटर के दायरे में लगता है. कुंभ मेला और महाकुंभ 20 किलोमीटर के रेंज में लगाया जाता है। जब जलस्तर तेजी से बढ़ता है तो मेला लगने वाली पूरी जगह बाढ़ में डूब जाती है. यहां संगम तट से सटे बड़े हनुमान जी का मंदिर देशभर में प्रसिद्ध है।

मंदिर के द्वार पर गंगा का पानी पहुंचता है. उसके स्वागत के लिए मंदिर के पुजारी के साथ प्रयागराज के लोग स्वागत करने पहुंच जाते हैं। हनुमान मंदिर के गर्भगृह के द्वार पर पुष्प माला, दूध, दही, मधु, मिष्ठान चढ़ाया जाता है।

संगम तट पर लगने वाले कुंभ-अर्धकुंभ और माघ मेले में देश-दुनिया से पहुंचने वाले श्रद्धालु आस्था की डुबकी लगाने के बाद इस मंदिर में दर्शन जरूर करते हैं। हर साल इस मंदिर में बाढ़ के पानी का पुजारी और प्रयागराजवासी इंतजार करते हैं। लेटे हुए हनुमान मंदिर के पीछे मान्यता है कि लंका विजय के बाद हनुमान जी का शरीर जीर्ण शीर्ण हो गया था. इसके बाद सीता जी ने उन्हें यहां विश्राम के लिए के लिए भेजा था। इसी वजह से यहां बजरंग बली शयन मुद्रा में हैं।

 

ब्यूरो रिपोर्ट ‘द इंडियन ओपिनियन’

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.