उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ में बारिश से हुआ लोगों का जनजीवन अस्त-ब्यस्त।

लखनऊ :लगातार हो रही बारिश के चलते उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ के कई इलाकों में हालात खराब हो गए हैं। मड़ियांव थाना क्षेत्र के मोहिबुल्लापुर स्टेशन के पास गड्ढे में डूबने से दो बच्चों की मौत हो गई। दोनों सुबह 11 बजे से ही गायब थे। मिली जानकारी के अनुसार दोनों बारिश में खेलते हुए पास के खाली प्लॉट में पहुंच गए। यहां काँस्ट्रक्शन हेतु गड्ढा खोदा गया था, जिसमें बारिश के चलते पानी भर गया। इसी गड्ढे में डूबने से दोनों बच्चों की मौत हो गई। पानी में शव उफनाने के बाद लोगों की नजर पड़ी तो पुलिस की मदद से उसे बाहर निकाला गया। एक बच्चे की उम्र 10 और दूसरे की 11 साल है।

पूरे शहर में सड़कों से लेकर घरों तक में पानी भर गया है। लखनऊ एयरपोर्ट के रनवे पर भी जलभराव हो गया था। खराब मौसम के चलते तीन फ्लाइट् लखनऊ की बजाय दिल्ली एयरपोर्ट पर लैंड कराई गईं। तकरीबन 5 घंटे बाद यात्रियों को दिल्ली से लखनऊ लाया गया।
पहली बार लखनऊ पुलिस ने बारिश को लेकर अलर्ट जारी किया है।

कमिश्नर की ओर से जारी अलर्ट में लोगों से घरों में ही रहने की अपील की गई है। कहा गया है कि जरूरी हो तभी लोग अपने घरों से बाहर निकलें। बिजली के खंभों और तार से बचने की सलाह दी गई है।
राजधानी लखनऊ में हो रही बुधवार रात से तेज बारिश के चलते लखनऊ एयरपोर्ट पर आने वाली एक इंटरनेशनल उड़ान सहित तीन उड़ानों को दिल्ली एयरपोर्ट के लिए डायवर्ट किया गया। करीब 5 घंटे बाद लखनऊ मौसम ठीक होने पर तीनों उड़ानें वापस लौटीं। वहीं एक उड़ान लखनऊ एयरपोर्ट का चक्कर काटने के बाद उतारी। एयरपोर्ट के मुताबिक दुबई से लखनऊ आने वाली फ्लाई दुबई की उड़ान गुरुवार सुबह करीब 7 बजे लखनऊ एयरपोर्ट आती है।


इसी तरह इंडिगो की दिल्ली उड़ान सुबह 7:10 पर, जबकि मुंबई की एअर इंडिया की उड़ान 10:30 पर लखनऊ एयरपोर्ट पर आती है। गुरुवार सुबह अधिक मौसम खराब होने के चलते इन तीनों उड़ानों को दिल्ली एयरपोर्ट के लिए डायवर्ट कर दिया गया। वहीं इंडिगो की शारजाह से लखनऊ आने वाली उड़ान सुबह 8 बजे पहुंचती है, लेकिन लखनऊ में मौसम खराब होने के चलते आसमान के कई चक्कर काटने के बाद करीब सवा घंटे बाद सुबह 9:20 बजे पर चौधरी चरण सिंह एयरपोर्ट पर उतरी।


मौसम खराब होने के चलते चौधरी चरण सिंह एयरपोर्ट से आने-जाने वाले करीब आधा दर्जन विमान एक से लेकर 3 घंटे तक विलंब से पहुंचे। विमान के लेटलतीफी के चलते हवाई यात्रियों को काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ा। वही विमानों की उड़ान ना जाने की वजह से एयरपोर्ट बिल्डिंग पर यात्रियों की काफी भीड़ नजर रही।
लोगों के घरों में बेड और किचन तक में नाले का गंदा पानी भर गया है। RTO दफ्तर, चारबाग रेलवे स्टेशन, गोमती नगर स्टेशन में भी पानी भर गया है। एयरपोर्ट का रनवे भी पानी से डूब गया है। कई फ्लाइट्स प्रभावित बताई जा रही हैं। नगर आयुक्त अजय द्विवेदी ने तेज बारिश के बीच ही गोमती नदी का जलस्तर चेक किया। शहर का अधिकतम तापमान गिरकर 22 डिग्री सेल्सियस पहुंच गया है। सितंबर में ही नवंबर-दिसंबर जैसी ठंड का एहसास होने लगा।


गोमती नगर, हजरतंगज, बालू अड्‌डा, प्रयाग नारायण रोड, जानकीपुरम, शृंगारनगर, फैजुल्लागंज, आलमबाग, चारबाग, हुसैनगंज, कैंट, कैसरबाग, अमीनाबाद, चौक, ठाकुरगंज, मवैया में सबसे ज्यादा हालत खराब हैं। इसके अलावा महानगर गोल मार्केट, कपूरतला, विकासगंज जैसे कई अन्य इलाके भी प्रभावित हैं।
राजधानी लखनऊ में पिछले 24 घंटे से लगातार बारिश हो रही है। 9 घंटे के अंदर 100 मिमी यानी चार इंच से ज्यादा बारिश हो चुकी है। अभी भी लगातार पानी गिरने का सिलसिला जारी है। हालात यह हो गए लखनऊ के आधा दर्जन से ज्यादा इलाकों में पेड़ सड़क पर गिर गए हैं।

रातभर बारिश के कारण शहर के कई क्षेत्रों में जलभराव हो गया है। इसको देखते हुए शहर के सभी 48 बाढ़ पम्पिंग स्टेशन को चालू कर दिया गया है। कुकरैल में बेकफ़्लो होने के चलते सिंचाई विभाग की मदद से गोमती बैराज का गेट खुलवा दिया गया है ताकि तुरंत पानी निकल सके। कई इलाकों में पम्पसेट लगाकर पानी निकाला जा रहा है।
नगर आयुक्त अजय कुमार द्विवेदी ने इसकी पुष्टि की। कहा कि भारी बारिश को देखते हुए शहर में मौजूद सभी 48 पंप स्टेशनों को चालू करा दिया गया है। जलकल विभाग को पानी पंप आउट करने के लिए कहा गया है। फायर डिपार्टमेंट की भी मदद ली जा रही है। सीवेज मैनेजमेंट की टीमों को लगाया गया है। इसके साथ ही उद्यान विभाग भी सक्रिय है जहां-जहां पर पेड़ गिर गए हैं या बिजली के खंभे गिरे हैं उन्हें हटाया जा रहा है।

रिपोर्ट – आर डी अवस्थी

Leave a Reply

Your email address will not be published.