राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के दुष्कर्म की घटनाओं को लेकर दिए बयान पर बीजेपी नेताओं ने दी तीखी प्रतिक्रिया-

राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा है कि निर्भया कांड के बाद दोषियों के लिए फांसी का कानून आ गया, जिसके चलते रेप के बाद हत्या की घटनाओं में इजाफा हुआ है, ये चिंताजनक बात है। उनके इस बयान पर भाजपा नेताओं ने निशाना साधना शुरू कर दिया है। बीजेपी सांसद राज्यवर्धन राठौड़ ने अशोक गहलोत के बयान पर प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि मुख्यमंत्री को अपनी सरकार के कामकाज पर फोकस करना चाहिए, राजस्थान में बलात्कार की घटनाओं में 31 फीसदी की बढ़ोतरी हुई है और अशोक गहलोत ऐसी बयानबाजी कर रहे हैं। राठौड़ ने कहा कि गहलोत को इस बयान के लिए जनता कभी माफ नहीं करेगी।

राठौड़ ने कहा अशोक गहलोत के इस बयान से लगता है कि वह बलात्कारियों के मनोवैज्ञानिक बन गए हैं। उन्होंने कहा कि महिलाओं के खिलाफ अपराध में राजस्थान देश में नंबर वन पर है। राठौड़ ने कहा कि कांग्रेस कभी बलात्कारियों का समर्थन करती है और कभी पाकिस्तान का समर्थन करती है।

राठौड़ ने कहा कि पूर्ववर्ती BJP सरकार में नाबालिग से रेप के आरोपियों को फांसी की सजा देने का कानून बना था और आज रेप की घटनाओं पर अंकुश लगाने में विफल अशोक गहलोत फांसी की सजा की खिलाफत कर रहे हैं। राठौड़ ने कहा कि राजस्थान दुष्कर्म के मामलों में देश में पहले पायदान पर है और राजस्थान में हर साल 2000 के करीब बच्चियों से रेप के मामले सामने आते हैं। जनवरी 2020 से जनवरी 2022 तक 4091 केस पॉक्सो एक्ट के तहत दर्ज हुए हैं।

पिछले 3 साल में राजस्थान युवा मासूम बच्चियों पर हो रहे अत्याचारों का केंद्र बना है, अपनी नाकामियों को छुपाने के लिए विवादित बयान देकर विषय बदलने वालों का इससे बड़ा दुर्भाग्य कुछ नहीं हो सकता है।

 

ब्यूरो रिपोर्ट ‘द इंडियन ओपिनियन’

Leave a Reply

Your email address will not be published.