अखिलेश यादव का क‍िला ढहाने की जिम्मेदारी जितेंद्र सिंह को सौपी

भारतीय जनता पार्टी आगामी लोकसभा चुनाव 2024 की तैयारियों में जुट गई है। खासकर, पार्टी उत्तर प्रदेश में उन लोकसभा सीटों पर अपनी पकड़ मजबूत करने के इरादे में प्लान बनाने में जुट गई है, जहां लोकसभा चुनावों में अपेक्षित सफलता नहीं मिल पाई है। लोकसभा चुनाव 2019 में जिन सीटों पर पार्टी को हार का सामना करना पड़ा, उस सीटों के लिए पार्टी खास प्लान बनाने में जुट गई है।

भाजपा ने इन सीटों पर पार्टी का ग्राफ बढ़ाने और पकड़ मजबूत करने के इरादे में कुछ बड़े नेताओं को जिम्मेदारी सौंपी है। केंद्रीय राज्यमंत्री जितेंद्र सिंह को मुरादाबाद, अमरोहा, संभल और मैनपुरी की जिम्मेदारी दी गई है। अमरोहा के अलावा, बाकी तीन सीटों पर समाजवादी पार्टी का कब्जा है। मैनपुरी की बात करें तो सपा संरक्षक मुलायम सिंह यादव इस सीट से सांसद हैं, जिस पर भाजपा की नजरें हैं।

इसके अलावा, केंद्रीय रेल मंत्री अश्विनी वैष्णव को सहारनपुर, नगीना और बिजनौर की जिम्मेदारी मिली है। इसके अलावा, केंद्रीय राज्यमंत्री अन्नपूर्णा देवी को जौनपुर, गाजीपुर और लालगंज लोकसभा सीट की जिम्मेदारी दी गई है। जबकि, कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर को कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया की परंपरागत सीट रायबरेली के अलावा श्रावस्ती, अंबेडकर नगर और मऊ की जिम्मेदारी सौंपी गई है। पार्टी की नजरें अमेठी के बाद अब रायबरेली की सीट पर है जहां भाजपा को लोकसभा चुनावों में सफलता नहीं मिली है। इस सीट पर सोनिया गांधी और कांग्रेस को घेरने के लिए भाजपा ने अभी से रणनीति बनानी शुरू कर दी है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.