डायबिटीज में ऐसे रखें खुद का ख्याल:डायबिटीज के मरीजों को कभी नहीं नजरअंदाज करने चाहिए ये लक्षण-

डायबिटीज एक आम बीमारी है लेकिन इसे कंट्रोल में रखना आसान काम नहीं होता है। शुगर बढ़ने या घटने पर कुछ खास तरह के लक्षण महसूस होते हैं जिन्हें नजरअंदाज करना भारी पड़ सकता है। ब्लड शुगर जब बढ़ जाता है तो नींद ठीक से नहीं आती है, बहुत प्यास लगती है, धुंधला दिखाई देता है और बार-बार पेशाब लगती है। वहीं ब्लड शुगर कम हो जाने पर ककांपना, भूख लगना, पसीना आना, बेचैनी और चिड़चिड़ापन महसूस होता है।

पूरे विश्व में डायबिटीज के मरीज बहुत तेजी से बढ़ रहे हैं और इस मामले में भारत दूसरे नंबर पर है। डायबिटीज के मरीजों के लिए सुबह का ब्रेकफास्ट सबसे ज्यादा जरूरी होता है। ब्रेकफास्ट न करने से लोग दोपहर के समय जरूरत से ज्यादा खा लेते हैं, जिस कारण ब्लड शुगर का स्तर बढ़ने के साथ वजन भी बढ़ने लगता है।

ब्लड शुगर घटने-बढ़ने के संकेत-

डायबिटीज का आंखों पर गहरा असर पड़ता है। डायबिटिक रेटिनोपैथी, एक ऐसी स्थिति जिसमें ब्लड ग्लूकोज का स्तर बढ़ने पर रेटिना की रक्त वाहिकाएं क्षतिग्रस्त हो हो जाती हैं। इसकी वजह से आंखों की रोशनी जाने का भी खतरा रहता है। आंखों के नीचे काले धब्बे बढ़ने लगते हैं, इसलिए समय-समय पर अपने आंखों की जांच कराते रहें।

ठीक से सुनाई ना देना- अगर आपका ब्लड शुगर लगातार बढ़ा हुआ या कम रहता है तो इसका असर शरीर के कई अंगों पर पड़ता है जिसमें कान भी शामिल है।
रक्त वाहिकाओं को नुकसान पहुंचने के कारण कान से कम सुनाई देने लगता है।

मुंह का बार सूखना-डायबिटीज के रोगियों को बहुत प्यास लगती है। थोड़ी थोड़ी देर में उन्हें ऐसा लगता है कि उनका मुंह सूख रहा है। अगर आपके साथ ऐसा हो रहा है तो डॉक्टर से संपर्क करें।

मसूड़ों से खून आना- अगर आपके मसूड़ों में लगातार सूजन बनी हुई है तो ये भी डायबिटीज का लक्षण हो सकता है। कई बार तो सूजन की वजह से मसूड़ों से खून भी आने लगता है। अगर आपके साथ भी ऐसा हो रहा है तो आपको तुरंत शुगर टेस्ट करवाना चाहिए।

 

ब्यूरो रिपोर्ट ‘द इंडियन ओपिनियन’

Leave a Reply

Your email address will not be published.